Tuesday, 1 May 2018

01 मई :मजदूर दिवस की शुरुआत हुई

1886 में अमेरिका में मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत हुई। इस दिन मजदूरों ने संगठित होकर काम के घंटे आठ घंटे तय किए जाने की मांग की। इसी दौरान शिकागो में प्रदर्शन कर रहे मजदूरों पर पुलिस ने गोली चला दी जिसमें सात मजदूरों की मौत हो गई, तब से हर साल इस दिन मजदूर दिवस मनाया जाने लगा। अब दुनिया भर के मजदूरों के लिए यह दिन खास है । 


1707 में इंग्लैंड, वेल्स और स्टाकलैंड मिलाकर ग्रेट ब्रिटेन का गठन हुआ।
1840 में यूनाइटेड किंगडम ने पहला आधिकारिक डाक टिकट जारी किया।
1851 में रानी विक्टोरिया ने लंदन में ग्रेट एक्जीविशन खोली।
1897 में स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की।
1908 में प्रफुल्ल चाकी ने मुजफ्फरपुर बम कांड को अंजाम देने के बाद खुद को गोली मारी।
1912
कैंसर के इलाज के लिए रेडियम का टेस्ट किया गया।  
1914 में कार निर्माता फोर्ड वह पहली कंपनी बनी जिसने अपने कर्मचारियों के लिए आठ घंटे काम करने का नियम लागू किया।
1923 में भारत में मई दिवस मनाने की शुरुआत सन 1923 में चेन्नई में हुई। इससे पहले भारत के 80 देश ऐसे थे जहां एक मई को श्रम दिवस के रूप में मनाया जाता था।
1945 में सोवियत लाल सेना का बर्लिन में प्रवेश किया।
1960 में महाराष्ट्र को राज्य घोषित किया गया था। इस दिन महाराष्ट्र और गुजरात अलग हुए थे। इससे पहले ये दोनों बांबे स्टेट का हिस्सा हुआ करते थे।
1961 में  क्यूबा के प्रधानमंत्री डॉक्टर फ़िदेल कास्त्रो ने क्यूबा को समाजवादी राष्ट्र घोषित कर दिया और चुनावी प्रक्रिया को खत्म कर दिया। 
1984 में  फू दोरजी बिना ऑक्सीजन के माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने में सफल।
1993 में  श्रीलंका के राष्ट्रपति रणसिंघे प्रेमदास की बम विस्फोट में मृत्यु हो गई।
2009 में स्वीडन में समान सेक्स मैरिज को कानूनी तौर पर वैध घोषित किया गया।
2011 में  बराक ओबामा ने घोषणा की कि 11 सितंबर के धमाकों का मास्टरमाइंड ओसामा बिन लादेन मारा गया है।
( HISTORY OF THE DAY, EVENTS OF THE DAY, WHAT HAPPEN ON THIS DAY ) 

No comments:

Post a comment